CA. Anand Jain

Chairman

Chairman's Message

Dear Members,
As we enter a new year with renewed vigour, I am reminded of these immortal lines by the great poet Harivansh Rai Bachchan:

वर्ष नव, हर्ष नव, जीवन उत्कर्ष नव। नव उमंग, नव तरंग, जीवन का नव प्रसंग। नवल चाह, नवल राह, जीवन का नव प्रवाह। गीत नवल, प्रीत नवल, जीवन की रीति नवल, जीवन की नीति नवल, जीवन की जीत नवल!

Indore Branch Updates

ICAI Updates

Awards & Events Gallery